Home शिक्षा नई श‍िक्षा नीति की मुख्य बातें।

नई श‍िक्षा नीति की मुख्य बातें।

- Advertisement -

नई श‍िक्षा नीति को मोदी कैबिनेट ने बुधवार को मंजूरी दे दी है। यह श‍िक्षा जगत में पूरी तरह से बदलाव लाने के लिए लाई गई है। शुरुआत स्कूली शिक्षा की बात की जाये तो नई शिक्षा नीति में पहले जो 10+2 की बात होती थी, अब उसकी जगह सरकार 5+3+3+4 की बात कर रही है।

- Advertisement -

5+3+3+4 का मतलब क्या है ?
5+3+3+4 में 5 का मतलब है – तीन साल प्री-स्कूल के और क्लास 1 और 2
उसके बाद के 3 का मतलब है क्लास 3, 4 और 5
उसके बाद के 3 का मतलब है क्लास 6, 7 और 8
और आख़िर के 4 का मतलब है क्लास 9, 10, 11 और 12

- Advertisement -

यानी अब बच्चे 6 साल की जगह 3 साल की उम्र में फ़ॉर्मल स्कूल में जाने लगेंगे। अब तक बच्चे 6 साल में पहली क्लास मे जाते थे, तो नई शिक्षा नीति लागू होने पर भी 6 साल में बच्चा पहली क्लास में ही होगा, लेकिन पहले के 3 साल भी फ़ॉर्मल एजुकेशन वाले ही होंगे। अब स्कूल के पहले पांच साल में प्री-प्राइमरी स्कूल के तीन साल और कक्षा 1 और कक्षा 2 सहित फाउंडेशन स्टेज शामिल होंगे।

- Advertisement -

नई शिक्षा नीति को अंतिम रूप देने के लिए बनाई गई समिति का नेतृत्व कर रहे डॉ. कस्तूरीरंगन ने कहा, अब छठी कक्षा से ही बच्चे को प्रोफेशनल और स्किल की शिक्षा दी जाएगी। स्थानीय स्तर पर इंटर्नशिप भी कराई जाएगी। व्यावसायिक शिक्षा और कौशल विकास पर जोर दिया जाएगा। नई शिक्षा नीति बेरोजगार तैयार नहीं करेगी। स्कूल में ही बच्चे को नौकरी के जरूरी प्रोफेशनल शिक्षा दी जाएगी।

स्कूलों में कला, वाणिज्य, विज्ञान स्ट्रीम का कोई कठोर पालन नहीं होगा, छात्र अब जो भी पाठ्यक्रम चाहें, वो ले सकते हैं। नई शिक्षा नीति में संगीत, दर्शन, कला, नृत्य, रंगमंच, उच्च संस्थानों की शिक्षा के पाठ्यक्रम में शामिल होंगे। स्नातक की डिग्री 3 या 4 साल की अवधि की होगी। एकेडमी बैंक ऑफ क्रेडिट बनेगी, छात्रों के परफॉर्मेंस का डिजिटल रिकॉर्ड इकट्ठा किया जाएगा। आनेवाले 2050 तक स्कूल और उच्च शिक्षा प्रणाली के माध्यम से कम से कम 50 फीसदी शिक्षार्थियों को व्यावसायिक शिक्षा में शामिल होना होगा। गुणवत्ता योग्यता अनुसंधान के लिए एक नया राष्ट्रीय शोध संस्थान बनेगा, इसका संबंध देश के सभी विश्वविद्यालय से होगा।

इसी तरह के बदलाव उच्च शिक्षा में भी किए गए हैं। अब ग्रेजुएशन में छात्र चार साल का कोर्स पढ़ेगें, जिसमें बीच में कोर्स को छोड़ने की गुंजाइश भी दी गई है। पहले साल में कोर्स छोड़ने पर सर्टिफ़िकेट मिलेगा, दूसरे साल के बाद एडवांस सर्टिफ़िकेट मिलेगा और तीसरे साल के बाद डिग्री, और चार साल बाद की डिग्री होगी शोध के साथ।

नई श‍िक्षा नीति पर मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा है कि अब बच्चे का रिपोर्ट कार्ड नहीं होगा बल्कि उसकी जगह उन्हें प्रोग्रेस कार्ड मिलेगा। अब ये छात्रों पर निर्भर करता है कि वो कौन सा विषय लेना चाहते हैं, अब वो इंजीनियरिंग के साथ संगीत भी ले सकते हैं। एचआरडी मंत्री ने कहा कि नई शिक्षा नीति से हम संस्कारयुक्त शिक्षा नीति बनाएंगे और हम विश्व स्तर की शिक्षा नीति की तरफ़ आगे बढ़ेंगे।

- Advertisement -

न्यूज़ अपडेट

भक्तों के दुःख होंगे दूर, कल से शारदीय नवरात्र की होगी शुरुआत

शनिवार यानि 17 अक्टबूर से शारदीय नवरात्र की शुरू हो रहा हैं। साल में 4 बार आने वाले मां के नौ दिन...

अमिताभ बच्चन हुए 78 साल के, बिग बी ने फैंस को कहा धन्यवाद

बॉलीवुड के शहंशाह कहे जाने वाले लोकप्रिय अभिनेता अमिताभ बच्चन का आज जन्मदिन है। आज अमिताभ बच्चन 78 साल के हो गए।...

दिल्ली के आदर्श नगर में DU के राहुल नाम के छात्र की पीट-पीटकर हत्या

खबर आ रही है कि दिल्ली के आदर्श नगर इलाके में DU के एक छात्र की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई है।...

मनोरंजन

अमिताभ बच्चन हुए 78 साल के, बिग बी ने फैंस को कहा धन्यवाद

बॉलीवुड के शहंशाह कहे जाने वाले लोकप्रिय अभिनेता अमिताभ बच्चन का आज जन्मदिन है। आज अमिताभ बच्चन 78 साल के हो गए।...

बिग बॉस 14 में एंट्री लेते ही निक्की तम्बोली की pics हुई viral

बॉलीवुड सुपरस्टार सलमान खान के लोकप्रिय शो बिग बॉस 14 की शुरुआत हो गई है। इस शो का प्रीमियर हर बार की...

संजय दत्त की पत्नी मान्यता ने कहा- संजू हमेशा से ही फाइटर रहे हैं

अभिनेता संजय दत्त जिन्हे लोग संजू बाबा भी बोलते है, लंग कैंसर की एडवांस स्टेज में हैं। मंगलवार रात को यह खबर सामने आई तो...

खबरों के लिए हमें लाइक, फॉलो और सब्सक्राइब करें

2,903FansLike
3FollowersFollow
11SubscribersSubscribe