Friday, September 24, 2021
29.1 C
Delhi
Homeदेशबिहारबिहार : गंगा नदी सहित कई नदियां उफान पर, आ सकती है...

बिहार : गंगा नदी सहित कई नदियां उफान पर, आ सकती है आफत

- Advertisement -

बिहार में कई नदियों का जलस्तर बढ़ता ही जा रहा है. गंगा नदी का जलस्तर पूरे उफान पर है जिससे बिहार की राजधानी पटना में भी बाढ़ का खतरा बढ़ता जा रहा है. गंगा नदी का बढ़ता जलस्तर यह संकेत दे रहा है कि नदी 24 घंटे में खतरे के निशान को पार कर सकती है. इस वजह से पटना में बाढ़ का खतरा है. पटना के नदी के आस पास के इलाकों के रास्ते पानी आ सकता है. पूर्व में नालों के रास्ते पानी घुसा था और आशंका इस बार ऐसे ही बाढ़ के खतरे को लेकर है. गंगा के साथ सोन नदी भी पूरी उफान पर है जिससे बिहार के अन्य इलाकों में भी बाढ़ का बड़ा खतरा है. उत्तर प्रदेश, पश्चिमी बंगाल और नेपाल में हो रही बारिश के कारण बिहार के नदियों का जल स्तर तेजी से बढ़ रहा है. जिस कारण गंगा नदी और सोन नदी का जलस्तर उफान पर है. गंगा नदी में पानी पिछले कुछ दिनों में दो गुना से अधिक हो गया. वहीं सोन नदी में पिछले 24 घंटे में 12 गुना से अधिक पानी बढ़ गया. गंगा नदी अगले 24 घंटे के अंदर पटना में खतरे के निशान को पार कर जाएगी. गंगा में पानी लगातार बढ़ता जा रहा है. अगले 24 घंटे में पटना का जलस्तर एक से ढाई मीटर तक बढ़ने की संभावना है.

- Advertisement -

बागमती, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, गंडक, गोपालगंज, बूढ़ी गंडक समस्तीपुर, कमला मधुबनी व दरभंगा, अधवारा मधुबनी, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर, कोसी सहरसा, खगड़िया व भागलपुर, लखनदेई मुजफ्फरपुर और परमान, पूर्णिया में फल्गू खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. बंगाल की खाड़ी की तरफ से पश्चिम की ओर बढ़ने वाले हवा के दबाव और बिहार, झारखंड से होते हुए पूर्वी उत्तर प्रदेश के ऊपरी हिस्से पर बने साइक्लोन सर्किल के प्रभाव से पटना सहित 19 जिलों में 3 से 11 एमएम तक बारिश होने के आसार हैं.

- Advertisement -

धनरुआ प्रखंड में स्थित कररूआ व महतमाईन नदियाें में शनिवार को जलस्तर हुई बढ़ोत्तरी से अभी प्रशासन संभल भी नहीं पाया था कि रविवार को दरधा नदी भी पूरे उफान पर आ गई. रविवार की दोपहर तक दरधा नदी का पानी प्रखंड के रूपसपुर, लवाईच मठ, रमणीबिगहा, दरियापुर समेत अन्य कुछ गांव में फैल गया. जिला परिषद सदस्य उर्मिला देवी समेत अन्य लोग अपने स्तर से नदी के तटबंध पर मिट्टी डाल पानी के बहाव को रोकने का प्रयास कर रहे थे. बाद में विभाग द्वारा वहां बोरी पहुंचाई गई. रूपसपुर में विभाग के लोग जी तोड़ मेहनत कर पानी के बहाव को फिलहाल रोकने में सफल हो गए हैं. इधर, रविवार की दोपहर तक प्रखंड में स्थित कररूआ व महतमाईन नदियाें के पानी से प्रखंड के बहरामपुर व छाती पंचायत, पभेड़ा व धनरुआ के अलावस देवधा पंचायत के दर्जनों गांव जलमग्न हो गए थे और इससे करीब 2500 एकड़ में लगी धान की फसल पूरी तरह डूब गई है.

- Advertisement -

न्यूज़ अपडेट

मनोरंजन