Friday, September 24, 2021
26.1 C
Delhi
Homeदेशअन्य राज्यप्रेम प्रसंग में शादी करवाना पड़ा महंगा, लगा 34 लाख का जुर्माना,...

प्रेम प्रसंग में शादी करवाना पड़ा महंगा, लगा 34 लाख का जुर्माना, पंचायत का तुगलकी फरमान

- Advertisement -

प्रेम प्रसंग को सफल बनाने का काम करना कभी कबीले तारीफ की बात बन जाती है तो कभी मुसीबत. दो भाइयों के लिए दो प्रेमी जोड़ों की मदद करना और शादी करवाना तब भाड़ी पड़ गया जब पंचायत ने दोनों पर 17-17 लाख का जुर्माना लगा दिया. यह मामला भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर पर स्थित राजस्थान के बाड़मेर के सिवाना उपखंड के लूदराड़ा गांव की है जहां पंचायत ने तुगलकी फरमान जारी कर दो सगे भाइयों पर 34 लाख रुपये का जुर्माना लगा दिया. दोनों भाइयों पर आरोप है कि उन्होंने अपनी भतीजी कि लव मैरिज करने में मदद की है. दो भाइयों ने अपने चचेरे भाई की बेटी की कुछ समय पहले लव मैरिज कराई थी जिसकी सजा पंचायत ने दोनों को दी है. परन्तु दोनों भाइयों का कहना है कि लव मैरिज करने में उनका कोई हाथ नहीं है, उन्होंने अपनी चचेरी भतीजी का साथ नहीं दिया है. पीड़ित खंगर सिंह राजपुरोहित और उनके भाई ने बाड़मेर के सिवाना पुलिस स्टेशन में अपनी शिकायत पंचायत के सदस्यों के खिलाफ दर्ज करवा दी है. उन दो भाइयो ने पंचायत पर आरोप लगाया कि पंचायत ने दोनों भाइयों के ऊपर 17-17 लाख रुपये का जुर्माना लगाया और अगर जुर्माना नहीं चुका पाए तब सामाजिक रूप से उनका बहिष्कार कर दिया गया.

- Advertisement -

बात जब मानवाधिकार आयोग तक पहुंची तब आयोग ने खुद इस मामले कि समस्या को हल करने का निर्णय लिया है. आयोग ने बाड़मेर के डीएम से इस घटना पर जांच कर रिपोर्ट देने के लिए आदेश दिया है. इसके अलावा पुलिस ने भी इस मामले में केस दर्ज कर लिया है. सिवाना थानाधिकारी प्रेमाराम के मुताबिक इस संबंध में 5 नामजद एवं 6-7 अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. मामले कि जांच पर एसएचओ प्रेम राम ने कहा कि पांच लोगों के नामजद और कई अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है. दर्ज हुये मामले की जांच की जा रही है. दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा रही है. कोई भी किसी का सामाजिक बहिष्कार नहीं कर सकता है. यहां कानून का राज है. दोनों भाइयों के मुताबिक वे अपने परिवार सहित लूदराड़ा में स्थाई रूप से निवास करते हैं और हाल ही में उनके चचेरे भाई की पुत्री ने सिवाना के प्रेम सिंह पुरोहित के साथ प्रेम विवाह कर लिया था. पीड़ितों का आरोप है कि इस फरमान के बाद से उन्हें अब गांव में कोई बुलाता नहीं है. पंचायती लगाकर उन्हें बेइज्जत किया गया है. न्यायालय के आदेश पर पुलिस ने जातीय पंचों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है और जांच शुरू कर दी है.

- Advertisement -

न्यूज़ अपडेट

मनोरंजन