Sunday, January 23, 2022
14.1 C
Delhi
Homeदेशअन्य राज्यजन्नत की चाह में छात्रा ने मुहर्रम के दिन खुद को लगाई...

जन्नत की चाह में छात्रा ने मुहर्रम के दिन खुद को लगाई फांसी

- Advertisement -

इंदौर कि रहने वाली 15 साल की राबिया ने मुहर्रम के दिन फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. सुसाइड करने से पहले उसने अपनी अम्मी से एक सवाल पूछा था कि क्या इमाम हुसैन मुहर्रम के दिन शहीद हुए थे? क्या आज जिन लोगों की मौत होगी उन्हें शहादत कहेगे और वे सभी जन्नत में जाएंगे? अम्मी ने जवाब दिया- हां. इसके कुछ देर बाद राबिया ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. परिवार के लोग राबिया को फंदे से उतारकर अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया.

- Advertisement -

घटना इंदौर शहर के रावजी बाजार क्षेत्र के चंपा बाग स्थित हाथीपाला की है. जहां राबिया अपने पूरे परिवार के साथ मुहर्रम पर शुक्रवार कि शाम को रोजा खोलने बैठी थी. राबिया कि अम्मी ने अपने बेटी की पसंद की खीर भी बनाई थी. रोजा खोलने से पहले केवल एक छोटे से सवाल ने मासूम लड़की की जान ले ली. परिवार के सभी लोग अभी तक इस घटना से सदमे में है. परिवार वालो का कहना है कि कुछ दिन पहले राबिया का दाखिला 11वीं कक्षा में करवाया गया था. एडमिशन के पैसे भी स्कूल में भर दिए गए थे. कुछ दिन पहले ही उसे 11वीं कक्षा की कॉपी-किताबें दिलवाई गई थीं. वह काफी खुश थी, लेकिन उसने इस तरह का कदम क्यों उठाया? यह बात परिवार में किसी को समझ नहीं आ रहा है.

- Advertisement -

राबिया के परिवार वालो ने बताया कि कुछ साल पहले स्कूल की पिकनिक राऊ सर्कल के पास नखराली धाणी पिकनिक पर गई थी. जहां पर राबिया की सहेली की झूले से गिरने से मौत हो गई थी. इसके बाद राबिया डरी-डरी सी रहती थी और बहकी-बहकी सी बातें करने लगी थी. राबिया हमेशा एक बात कहती रहती थी कि जिंदगी और मौत क्या है? कभी भी हम सब मर सकते हैं. ऐसी बातों पर परिवार वाले उसे कई बार डांट लगा चुके थे, लेकिन सहेली की मौत के बाद वह मानसिक रूप से उबर नहीं पाई थी.

- Advertisement -

न्यूज़ अपडेट

मनोरंजन