Thursday, August 5, 2021
Home Blog

बिहार : सीएम नीतीश कुमार ने किया अनलॉक 5 का ऐलान, खुलेंगे स्कूल और सिनेमा हॉल

कोरोना संक्रमण में कमी आने के बाद अब बिहार में रियायतों का दौर शुरू हो गया है. बुधवार को सीएम नीतीश कुमार ने अनलॉक 5 का ऐलान करते हुए सोशल मीडिया के माध्यम से जानकारी दी है कि बिहार में स्कूल खुलेंगें और प्रतिबंधों के साथ सिनेमा हॉल भी खुलेंगे. बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने ट्विटर के माध्यम से जानकारी दी है कि कोरोना संक्रमण में कमी को देखते हुए दिनांक 07 अगस्त से 25 अगस्त तक सभी दुकानों को साप्ताहिक बंदी के साथ खोलने का निर्णय लिया गया है। नौवी से दसवीं कक्षा 7 अगस्त से एवं पहली से आठवीं कक्षा 16 अगस्त से खुलेगी। कोचिंग संस्थान छात्रों की 50 प्रतिशत उपस्थिति (एक दिन छोड़कर) के साथ कार्य कर सकेंगे। सार्वजनिक वाहनों को पूर्ण क्षमता के साथ चलने की अनुमति होगी। प्रतिबंधों के साथ सिनेमा हाॅल एवं शाॅंपिग माॅल भी खुलेंगे। आगे उन्होंने ट्वीट किया कि विद्यालयों में बच्चों को कोविड अनुकूल व्यवहार की जानकारी दी जाएगी। लोगों को अभी-भी कोविड संबंधी सावधानी बरतनी चाहिए।

रिपोर्ट्स के अनुसार, सिनेमा हॉल को फिलहाल 50 फीसदी क्षमता के साथ ही खोले जाने का निर्णय लिया गया है. साथ ही बाजारों को शाम सात बजे तक खोला जायेगा. मॉल्स को भी फिलहाल हफ्ते में सिर्फ तीन दिन ही खोलने का फैसला लिया गया है. बता दें कि सरकार के निर्णय में 7 से 25 अगस्‍त तक अनलॉक की ढील जारी रहेगी।

T20 मैच में भारत-पाकिस्तान की होगी कांटे की टक्कर, 24 अक्टूबर को दुबई में हो सकता है मैच

एक बार फिर भारत और पाकिस्तान का मुकाबला क्रिकेट के मैदान पर होने वाला है. क्रिकेट प्रेमी भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाले मैच के लिए बेताब रहते हैं और किसी भी हाल में देखना ही चाहते हैं. ऐसे में अच्छी खबर सामने आ रही है कि आनेवाले T20 world cup में 24 अक्टूबर को दोनों टीमों के बीच दुबई में कांटे की टक्कर होने वाली है. बता दें कि T20 वर्ल्ड कप 2021 की शुरुआत 17 अक्टूबर से दुबई (UAE) और ओमान में होने जा रहा है. भारत और पाकिस्तान (India vs Pakistan) के बीच होनेवाले क्रिकेट मैच के लिए दोनों देशों के क्रिकेट फैंस को इंतज़ार रहता है. क्रिकेट फैंस में लंबे समय बाद इस मैच को लेकर काफी उत्साह है.

भारत और पाकिस्तान के बीच 2016 में आखिरी मैच खेला गया था और वह भी T20 वर्ल्ड कप मैच ही था. दोनों टीमें T20 वर्ल्ड कप में 5 बार भीड़ चुकी है और सभी मुकाबले में भारत ने पाकिस्तान को हराया ही है। इस साल T20 वर्ल्ड कप दुबई (UAE) और ओमान में होने जा रहा है। पहले यह वर्ल्ड कप भारत में ही होना था लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते ICC ने वेन्यू को बदलकर दुबई (UAE) और ओमान कर दिया। वैसे BCCI ही इस टूर्नामेंट को होस्ट कर रही है. ICC ने पिछले महीने ही वर्ल्ड कप ग्रुप का ऐलान किया था. फिलहाल अभी ICC की तरफ से वर्ल्ड कप शेड्यूल जारी नहीं किया गया है।

Tokyo Olympics hockey में इतिहास रचने जा रही भारत की बेटियां, आज है सेमीफइनल

Tokyo Olympics hockey Semifinal: टोक्यो ओलंपिक में आज भारतीय महिला हॉकी टीम सेमीफाइनल खेलेगी. भारत और अर्जेंटीना (India vs Argentina) के बीच यह सेमीफइनल मुकाबला होने वाला है. भारतीय महिला हॉकी टीम आज दोपहर 03:30 बजे अर्जेंटीना के साथ सेमीफइनल खेलेगी. आज भारत Olympics मुकाबले में इतिहास रच सकता है. समूचा देश भारत की जीत के लिए दुआएं कर रहा है और जश्न की तयारी चल रही है. बता दें कि क्वॉर्टर फाइनल मुकाबले में भारत की बेटियों ने ऑस्ट्रेलिया को जबरदस्त मात दी. तिरंगा लहराएगा और सेमीफाइनल में भी भारत की बेटियां जीतेंगी इस बात का भी देश को पूरा भरोषा है. अच्छी शुरुआत नहीं होने के बावजूद भारत की बेटियों ने हिम्मत नहीं हारा और आज सेमीफइनल तक अपनी जगह बनायीं. पूरा देश टीम के साथ है और उनकी जीत के लिए प्रार्थना कर रहा है.

ऑस्ट्रेलियाई टीम को धूल चटाने के बाद भारतीय टीम आज पूरे आत्मविश्वास में है. ऑस्ट्रेलियाई टीम को मात देने के लिए भारतीय महिला टीम ने मैदान पर अपनी पूरी क्षमता का प्रदर्शन किया था. भारतीय हॉकी टीम के पूर्व सदस्य और ओलंपियन जगबीर सिंह ने कहा है कि अर्जेंटीना की खिलाड़ी काफी अक्रामक हॉकी खेलती हैं. इसीलिए हमारी बेटियों को भी अपना अक्रामक खेल खेलना जरुरी है. उन्होंने कहा कि मैच में भारतीय टीम को ज्यादा से ज्यादा पेनल्टी कॉर्नर बनाने होंगे और गोल में बदलना होगा. फिलहाल जीत के लिए दुआओं का दौर जारी है. बता दें कि इससे पहले 1980 ओलंपिक में भारतीय महिला हॉकी टीम ने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया था और भारतीय टीम TOP – 4 तक पहुंची थी .ऐसा मौका पहली बार आया है कि Olympics में भारतीय महिला हॉकी टीम सेमीफाइनल खेलने जा रही है.

भगवान् शिव की दिव्य दृष्टि है उनकी तीसरी आँख, कुछ भी छिप नहीं सकता

सम्पूर्ण देवी देवताओं में केवल भगवान शिव के ही तीन आँख है लेकिन क्या आप भगवान शिव के तीनों आँखों के रहस्यों के बारे में जानते है ? अगर नही तो हम आपकों आज भगवान शिव के तीनों आँखों का रहस्य बताते है.भगवान भोलेनाथ का एक नाम त्रिलोचन भी है इसलिए क्योंकि एक मात्र भगवान् शिव ही ऐसे हैं जिनकी तीन आंखें हैं. शिव के दो नेत्र तो सामान्य रुप से खुलते और बंद होते रहते हैं लेकिन तीसरी आंख शिव जी उस वक्त खोलते हैं जब शिव जी बहुत क्रोधित होते हैं. इस नेत्र के खुलने का मतलब है प्रलय का आना.जानकार बताते हैं कि जब शिव जी की तीसरी आंख सामान्य आखों की तरह दिखती नहीं है. तब शिव के तीन नेत्र इस बात का प्रतीक है कि भगवान शिव में तीनों लोक स्वर्ग, मृत्यु और पाताल समाहित है.third-eye-of-shiv

भगवान शिव ही तीनों लोकों पर नजर रखते हैं. शिव के तीन नेत्र इस बात के प्रतीक हैं कि शिव ही संसार में व्याप्त तीनों गुण रज, तम और सत्व के जनक हैं. इनकी ही प्रेरणा से रज, तम और सत्व गुण विकसित होते हैं. ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव की तीसरी आंख उनकी दिव्य दृष्टि है और इस दिव्य दृष्टि से कुछ भी छुप नहीं सकता. भोलेनाथ की तीसरी आंख से उन्हें आत्मज्ञान की अनुभूति होती है. इस तीसरी आंख से शिव तीनों लोकों की गतिविधियों पर भी नजर रखते हैं. शिव की तीसरी आंख उन्हें हर चीज की असीम गहराई में ले जानें के लिए सहायक होती है. भगवान् शिव का तीसरा आँख वास्तव में ज्ञान का नेत्र है जिसके खुलने मात्र से काम भष्म हो जाता है. इसका प्रमाण है कि जब शिव जी ने पहली बार तीसरी आंख खोली तो कामदेव जलकर भष्म हो गए थे.shiv-kamdev

शिव का तीसरा नेत्र मनुष्य के लिए ज्ञान रुपी नेत्र को विकसित करने की प्रेरणा देने वाला है ताकि मनुष्य धरती पर ज्ञान द्वारा काम और वासनाओं से मुक्त होकर मुक्ति प्राप्त कर सके. भगवान् शिव की तीसरी आंख के संदर्भ में कामदेव वाली कथा का सर्वाधिक जिक्र होता है. शिव अपने ध्यान में मग्न थे. कामदेव भगवान शिव को प्रभावित करने की कोशिश कर रहे थे. कामदेव भगवान शिव और माता पार्वती के मिलन के लिए ऐसा कर रहे थे. कामदेव ने भगवन शिव के ह्रदय पर वाण चलाया जिसके बाद भगवान् शिव ने अत्यधिक क्रोध में अपनी तीसरी आंख खोल दी. उनके तीसरी आंख से निकली दिव्य अग्नी से कामदेव जल कर भष्म हो गए. सच्चाई यह है कि यह कथा प्रतिकात्मक है जो यह दर्शाती है कि कामदेव हर मनुष्य के भीतर वास करता है पर यदि मनुष्य का विवेक और प्रज्ञा जागृत हो तो वह अपने अंदर उठ रहे अवांछित काम के उत्तेजना को रोक सकता है और उसे नष्ट कर सकता हैं.

बिहार : पड़ोसी के प्यार में पागल पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर कर दी पति की हत्या

प्रेमी के प्यार में एक महिला ऐसी पागल हुई कि उसने न केवल अपने पति की हत्या कर दी, बल्कि शव को ठिकाने लगाने के बाद पुलिस स्टेशन में पहुंच गई शिकायत तक दर्ज करा दी. मामला बिहार के झंझारपुर अनुमंड से जुड़ा है जहां विवाहित महिला ने पड़ोस में रहने वाले अपने प्रेमी के साथ मिलकर इस घटना को अंजाम दिया. पत्नी ने अपने प्रेमी और उसके दोस्तों की सहायता से पति की हत्या कर दी और थाने में जाकर पति के लापता होने की रिपोर्ट दर्ज करा दी. घटना मधेपुर थाना के भीठ भगवानपुर गांव की है. पुलिस की जांच पड़ताल में इस मामले का खुलासा होने के बाद आरोपी पत्नी को गिरफ्तार कर लिया गया हैं. हलाकि महिला का प्रेमी और उसके दो साथी अभी भी पुलिस के गिरफ्त से बाहर हैं. उन सभी हत्यारों की तलाश में पुलिस की छापेमारी जारी है. झंझारपुर एसडीपीओ आशीष आनंद ने बताया कि आरोपी महिला का नाम चांदनी सिंह हैं जिसका नजायज संबंध भीठ भगवानपुर गांव में अपने पड़ोसी राजकुमार सिंह के साथ था.

अवैध संबंध के चलते ही चांदनी सिंह ने राजकुमार सिंह और उसके दो दोस्तों की मदद से अपने पति निरंजन सिंह की गला घोटकर हत्या कर दी और शव को नदी में फेंक दिया. हत्‍या के वक्‍त निरंजन सिंह सो रहे थे. एसडीपीओ का कहना है कि घटना को अंजाम देने के बाद चांदनी सिंह ने बड़े ही चतुराई से अपने पति की गुमशुदा होने की रिपोर्ट थाने में दर्ज करा दी. रिपोर्ट में चांदनी सिंह ने बताया कि निरंजन सिंह गांव के ही सरोज कर्ण के यहां ड्राइवर था. 10 जुलाई की शाम नशे की हालत में घर आये और पैसे मांगने को लेकर मारपीट करने के बाद घर से कहीं बाहर चला गए. फिर भी पुलिस द्वारा पूरे मामले की अच्छे से तफ्तीश करने के बाद पता चला कि पिछले दो साल से चांदनी सिंह का अपने पड़ोसी राजकुमार सिंह के साथ अवैध संबंध था. 8 जुलाई को चांदनी सिंह ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर निरंजन सिंह की हत्या का प्लान बनाया और 10 जुलाई की रात अपने घर में ही राजकुमार सिंह और उसके दो दोस्तों के साथ मिलकर निंद्रा अवस्था में ही निरंजन सिंह की गला दबाकर हत्या कर दी.

प्रकृति ने ढाया कहर, कई नदियां उफान पर, कई राज्यों में बारिश और बाढ़ का संकट

0

Flood in India: भारी बारिश और बाढ़ के चलते देश के कई राज्यों में लोगों को भारी मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है. सोमवार को राजस्थान और मध्य प्रदेश में हुई भारी बारिश की वजह से हुए हादसों में 4 लोगों की मौत हो गई. उधर पटना में एक छोटे बांध के टूटने से बाढ़ का खतरा बढ़ गया. दिल्ली में यमुना का जलस्तर बढ़ने की वजह से 100 झोपड़ी खाली करने के आदेश दिया गया हैं. वहीं बंगाल के कई सड़कों पर नावें चल रही हैं. ग्वालियर-चंबल अंचल में सोमवार को जमकर बारिश हुई. बारिश के चलते कूनो, क्वारीं, पार्वती, महुअर और सांक नदी उफान पर हैं. वहीं चंबल का जलस्तर में भी तेजी से बढ़ोतरी हो रही है. इसके चलते आसपास के इलाकों में अलर्ट जारी कर दिया गया है. शिवपुरी और श्योपुर जिले में स्थिति ज्यादा खराब है.

श्योपुर में दो जगहों पर पानी में फंसे 100 लोगों को राहत और बचाव दल ने सही सलामत बाहर निकाल लिया हैं. शिवपुरी के कोलारस में बाढ़ में फंसे करीब 1000 लोगों को बचने के लिए नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फोर्स के साथ तीन हेलिकॉप्टरों को लगाया गया है. यहां पर दो गांवों के हालात ज्यादा खराब है. भिंड, मुरैना और शिवपुरी में बारिश के चलते मकान गिरने से तीन लोगों की मौत हो गई, वहीं 6 लोग घायल हो गए. जयपुर में सोमवार शाम 6 बजे आई तेज बारिश के चलते चौड़ा रास्ता स्थित गोलछा सिनेमा घर के पास 200 साल से जयादा पुराना बरगद का पेड़ जड़ समेत उखड़ गया. इस दुर्घटना में एक व्यक्ति की मौत हो गई. 3 गाड़िया भी पेड़ के नीचे दब गईं. शहर में सोमवार को 2 घंटे में हुई 3.6 इंच बारिश से सड़कें नदियों में तापडिल हो गईं और दुकानों में पानी भर गया हैं.

बंगाल के कई इलाके बाढ़ की चपेट में हैं. दूरदराज के इलाकों में फंसे लोगों को एयरफोर्स के हेलिकॉप्टर्स के दवारा रेस्क्यू किया जा रहा है. हुगली जिले के कई इलाकों में घरों में पानी भरने की वजह से लोग छतों पर रहने को मजबूर हैं. कई जगह सड़कें पानी में पूरी तरह डूबी गई हैं. ऐसे में लोग आने जाने के लिए नावों का इस्तेमाल कर रहे हैं. इस बार मानसून ख़तम होने के बाद भी अक्टूबर से दिसंबर के दौरान अच्छी बारिश होने कि सम्भावना है.

CBSE 10वीं बोर्ड के रिजल्ट जारी, 99.04 फीसदी छात्र हुए पास

CBSE की10वीं के रिजल्ट आ चुके हैं.10वीं के लाखों छात्रों का रिजल्ट के लिए इंतज़ार खत्म हो चुका है. इस साल कुल 99.04 फीसदी छात्र पास हुए हैं। बोर्ड के आधिकारिक वेबसाइट पर रिजल्ट जारी हो गया है.आप cbse.gov.in या cbseresults.nic.in पर जाकर रिजल्ट चेक कर सकते हैं. इसके अलावा डिजीलॉकर और SMS के जरिए भी रिजल्ट देखा जा सकता है. CBSE 10वीं के रिजल्ट में इस बार भी लड़कियों ने बाजी मारी है। लड़को के मुकाबले लड़कियों का पास प्रतिशत 0.35 फीसदी ज्यादा है.

बता दें कि कोरोना के चलते इस साल परीक्षा नहीं हुई थी. रिजल्ट ऑल्टरनेटिव असेसमेंट के आधार पर तैयार किया गया है. इसलिए इस साल मेरिट लिस्ट जारी नहीं की गई है. इस साल स्टूडेंट्स को डिजीलॉकर के जरिए डिजिटल मार्कशीट मिलेगी जिसके लिए digilocker.gov.in पर जाकर मार्कशीट डाउनलोड करना पड़ेगा.

BIGG BOSS: सीजन 15 के दूसरे कंटेस्टेंट का टीज़र हुआ रिलीज़, सस्पेंस बरकरार

लोकप्रिय रियालिटी टीवी शो Bigg Boss की शुरुआत OTT प्लेटफार्म पर जल्द होने जा रही है. 8 अगस्त से इस रियालिटी शो की शुरुआत VOOT ott पर होने जा रही है. कुछ हफ्ते तक Bigg Boss को वूट OTT पर किया जाएगा. OTT प्लेटफार्म पर फिल्ममेकर करण जौहर Bigg Boss को होस्ट करने जा रहे हैं. टीवी पर शिफ्ट होने के बाद सलमान खान Bigg Boss को होस्ट करेंगे. Bigg Boss के प्रोमो वीडियो को पहले ही रिलीज किया जा चुका है. Bigg Boss की शुरुआत में अब बहुत कम समय बचा हुआ है. जैसा कि कंटेस्टेंट्स की जानकारी इस शो के प्रीमियर एपिसोड में की जाती है लेकिन उससे पहले कंटेस्टेंट्स के बारे में फैंस को हिंट देना शुरू कर दिया जाता है.

पहले कंटेस्टेंट के नाम की घोषणा करने के बाद अब दूसरे कंटेस्टेंट के बारे में फैंस को हिंट दिया गया है. वूट के इंस्टाग्राम अकाउंट से एक क्लिप भी शेयर की गई है जिसमें उनकी झलक मिल रही है. वूट के इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक टीजर वीडियो रिलीज किया है. इस वीडियो को शेयर करते हुए इंस्टाग्राम पर लिखा गया है -ओह क्या आपने वो हाई फ्लाइंग किक देखी, वो मुस्कान, स्विमिंग पूल में वो डाइव, आखिर कौन है ये मिस्ट्री मैन, क्या आप गेस कर पाए.टीजर देखकर अंदाजा लग रहा है दूसरा कंटेस्टेंट बॉलीवुड एक्टर करण नाथ हैं लेकिन सस्पेंस अभी बरकरार है और ऑफिशियल अनाउंसमेंट के बाद ही पता लग पायेगा कि आखिर कौन हैं. करण नाथ ये दिल आशिकाना, पागलपन, गन्स ऑफ बनारस जैसी फिल्मों का हिस्सा रह चुके हैं.

श्रद्धालुओं के बिना सन्नाटे में बाबा बैधनाथ धाम नगरी देवघर, श्रद्धालु कर रहे ऑनलाइन दर्शन

आज सावन की दूसरी सोमवार है. देवघर में बाबा बैधनाथ धाम मंदिर परिसर से लेकर शिवगंगा तक हर जगह सन्नाटा दिख रहा है. कोरोना संक्रमण के चलते पाबंदियों के कारण अभी सभी धार्मिक स्थलों और मंदिरों में आम श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक लागू है। सन्नाटा भी ऐसा जिसको किसी ने अपने सपनो में भी नहीं देखा होगा. प्रत्येक वर्ष सावन के माह में शिवगंगा और मंदिर परिसर क्षेत्र में हर हर महादेव और बोल बम के नारे गूंजा करते थे. लाखों लोगों की यहां 24 घंटे भीड़ होती थी. इस साल बाबा नगरी में चारों ओर सन्नाटा ही दिखाई दे रहा हैं. जिला प्रशासन द्वारा झारखंड बिहार की बॉर्डर सीमा को सील करने के बाद अब आम श्रद्धालुओं का भी देवघर आना बंद हो गया है जिससे शिव गंगा तट पर सन्नाटा छा गया है. हालांकि सम्पूर्ण विधि एवं परंपरा के साथ मंदिर के पुरोहितों द्वारा पूजा-अर्चना की जा रही है और श्रद्धालु बाबा बैद्यनाथ धाम के ऑनलाइन दर्शन कर रहे हैं।

अगर शिव गंगा तट की बात करें तो यहां पर भी इक्का-दुक्का पुरोहित और एक-दो फूल बेचने वाले नजर आते हैं. फूल बेचने वालों का कहना है कि किसी तरह मेहनत कर फूल लेकर आते हैं लेकिन यह बाबा के भक्त के अभाव में फूल सूख जाते हैं. आम श्रद्धालुओं के नहीं आने से भी इनकी हालत और खराब हो गई है. एक तरफ महाजन का कर्ज है तो दूसरी तरफ घर चलाना भी मुश्किल हो गया है.पुरोहित भी मानते हैं कि स्थिति बद से बदतर हो गई है. झारखंड की सीमा को बंद करने के बाद देवघर बाबा मंदिर में यात्रियों का आना मना हो गया है. ऐसे में अन्य दिनों से भी ज्यादा खराब स्थिति आज बाबा मंदिर क्षेत्र और शिवगंगा की हो गई है. चूड़ी दुकानदार और पेड़ा दुकानदार पहले से परेशान थे और अब उनकी परेशानी और बढ़ गई है. इस साल शिवगंगा तक पूरी तरह से वीरान है.

बिहार : गंगा नदी सहित कई नदियां उफान पर, आ सकती है आफत

बिहार में कई नदियों का जलस्तर बढ़ता ही जा रहा है. गंगा नदी का जलस्तर पूरे उफान पर है जिससे बिहार की राजधानी पटना में भी बाढ़ का खतरा बढ़ता जा रहा है. गंगा नदी का बढ़ता जलस्तर यह संकेत दे रहा है कि नदी 24 घंटे में खतरे के निशान को पार कर सकती है. इस वजह से पटना में बाढ़ का खतरा है. पटना के नदी के आस पास के इलाकों के रास्ते पानी आ सकता है. पूर्व में नालों के रास्ते पानी घुसा था और आशंका इस बार ऐसे ही बाढ़ के खतरे को लेकर है. गंगा के साथ सोन नदी भी पूरी उफान पर है जिससे बिहार के अन्य इलाकों में भी बाढ़ का बड़ा खतरा है. उत्तर प्रदेश, पश्चिमी बंगाल और नेपाल में हो रही बारिश के कारण बिहार के नदियों का जल स्तर तेजी से बढ़ रहा है. जिस कारण गंगा नदी और सोन नदी का जलस्तर उफान पर है. गंगा नदी में पानी पिछले कुछ दिनों में दो गुना से अधिक हो गया. वहीं सोन नदी में पिछले 24 घंटे में 12 गुना से अधिक पानी बढ़ गया. गंगा नदी अगले 24 घंटे के अंदर पटना में खतरे के निशान को पार कर जाएगी. गंगा में पानी लगातार बढ़ता जा रहा है. अगले 24 घंटे में पटना का जलस्तर एक से ढाई मीटर तक बढ़ने की संभावना है.

बागमती, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, गंडक, गोपालगंज, बूढ़ी गंडक समस्तीपुर, कमला मधुबनी व दरभंगा, अधवारा मधुबनी, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर, कोसी सहरसा, खगड़िया व भागलपुर, लखनदेई मुजफ्फरपुर और परमान, पूर्णिया में फल्गू खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. बंगाल की खाड़ी की तरफ से पश्चिम की ओर बढ़ने वाले हवा के दबाव और बिहार, झारखंड से होते हुए पूर्वी उत्तर प्रदेश के ऊपरी हिस्से पर बने साइक्लोन सर्किल के प्रभाव से पटना सहित 19 जिलों में 3 से 11 एमएम तक बारिश होने के आसार हैं.

धनरुआ प्रखंड में स्थित कररूआ व महतमाईन नदियाें में शनिवार को जलस्तर हुई बढ़ोत्तरी से अभी प्रशासन संभल भी नहीं पाया था कि रविवार को दरधा नदी भी पूरे उफान पर आ गई. रविवार की दोपहर तक दरधा नदी का पानी प्रखंड के रूपसपुर, लवाईच मठ, रमणीबिगहा, दरियापुर समेत अन्य कुछ गांव में फैल गया. जिला परिषद सदस्य उर्मिला देवी समेत अन्य लोग अपने स्तर से नदी के तटबंध पर मिट्टी डाल पानी के बहाव को रोकने का प्रयास कर रहे थे. बाद में विभाग द्वारा वहां बोरी पहुंचाई गई. रूपसपुर में विभाग के लोग जी तोड़ मेहनत कर पानी के बहाव को फिलहाल रोकने में सफल हो गए हैं. इधर, रविवार की दोपहर तक प्रखंड में स्थित कररूआ व महतमाईन नदियाें के पानी से प्रखंड के बहरामपुर व छाती पंचायत, पभेड़ा व धनरुआ के अलावस देवधा पंचायत के दर्जनों गांव जलमग्न हो गए थे और इससे करीब 2500 एकड़ में लगी धान की फसल पूरी तरह डूब गई है.