Thursday, August 5, 2021
Homeदेशअब तक 7 राज्यों में बर्ड फ्लू ने पसारे पाँव, सस्ता हुआ...

अब तक 7 राज्यों में बर्ड फ्लू ने पसारे पाँव, सस्ता हुआ चिकन

- Advertisement -

कई राज्यों में हजारों मुर्गियों, कौओं, बत्तख आदि पंछियों की मृत्य ने बर्ड फ्लू के फैलने की संभावना को मजबूत कर दिया है। देश के कई राज्यों में बर्ड फ्लू के मामलों की पुष्टि हुई है। अब तक बर्ड फ्लू की पुष्टि उत्तर प्रदेश, केरल, राजस्थान, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और गुजरात में हुई हैं। हालाँकि अभी स्थिति नियंत्रण में है लेकिन यदि बर्ड फ्लू वायरस मनुष्य तक पहुंच गया तो जानलेवा भी हो सकता है। बता दें कई राज्यों में एलर्ट जारी कर दिया है। कई राज्यों में जंगली पक्षियों, कौवे और मुर्गियों की मौत के कारणों का पता लगाया जा रहा है। पोल्ट्री फॉर्म के उत्पाद नहीं खाने की सलाह दी जा रही है और कई तरह की विशेष सावधनियां बरतने की सलाह दी जा रही है।

- Advertisement -

बर्ड फ्लू को एवियन एंफ्लुएंजा भी कहते हैं। यह एक वायरल इंफेक्शन है जो कि पक्षियों से मनुष्यों में हो सकता है और यह जानलेवा भी हो सकता है। यह N5N1 एवियन एंफ्लुएंजा कहलाता है और यह बेहद संक्रामक होता है। समय पर इलाज होना काफी जरुरी है और इलाज नहीं होने पर यह वायरस जान भी ले सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार सबसे पहले एवियन एंफ्लुएंजा का मामला 1997 में आया था और उस वक़्त संक्रमित होने वाले लगभग 60 प्रतिशत लोगों की जान भी चली गई थी।

- Advertisement -

इसके वायरस वहीं फैलते हैं जहां पक्षि‍यों की काफी तादाद होती है। पक्षियों द्वारा वायरस सांस के जरिये शरीर में प्रवेश कर जाता हैं। उन लोगों को संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है जो ज्यादातर पक्षियों के संपर्क में रहते हैं। पक्षियों का बिना पका कच्चा मांस खाने से भी संक्रमण का खतरा बना रहता है। हमेशा कफ रहना, नाक बहना, सिर में दर्द रहना, गले में सूजन, मांसपेशियों में दर्द, दस्त होना, हर वक्‍त उल्‍टी-उल्‍टी सा महसूस होना, पेट के निचले हिस्से में दर्द रहना, सांस लेने में समस्या, सांस ना आना, निमोनिया, आंख में कंजंक्टिवाइटिस आदि (BIRD FLU) बर्ड फ्लू के मुख्या लक्षण हैं।

- Advertisement -

दुकानदारों का कहना है कि पिछले कई दिनों से हुए लॉकडाउन की वजह से 7 महीने दुकान बंद थी और अब इस वायरस के आने से उनलोगों का व्यापार ठप हो गया है। मांस की बिक्री में कमी आई है और काम रेट में बेचना पड़ रहा है जिससे कि कम आमदनी वाले और गरीब लोग इसकी खरीदारी ज्यादा कर रहे हैं।

- Advertisement -

न्यूज़ अपडेट

मनोरंजन