Friday, September 24, 2021
26.1 C
Delhi
Homeआस्थाइतनी जल्दी दो-दो ग्रहण, सूर्यग्रहण से क्या मचेगी हलचल

इतनी जल्दी दो-दो ग्रहण, सूर्यग्रहण से क्या मचेगी हलचल

- Advertisement -

साल 2021 का पहला सूर्य ग्रहण 10 जून को लगने जा रहा है। इस साल का पहला चंद्रग्रहण 26 मई को लग चुका है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इतनी जल्दी-जल्दी ग्रहण लगना अशुभ मन जाता है। ग्रहण का इतनी जल्दी-जल्दी लगना कई राशियों पर शुभ और अशुभ प्रभाव डाल सकता है। इतनी जल्दी जल्दी लगने वाला ग्रहण ज्योतिष के हिसाब से हलचल पैदा कर सकता है। ज्योतिष के अनुसार इस तरह बार बार ग्रहण लगने से प्राकृतिक आपदाएं बढ़ सकती हैं। भारतीय समय के अनुसार ग्रहण 10 जून की दोपहर 1 बजकर 43 मिनट पर शुरू होगा और शाम 6 बजकर 41 मिनट पर खत्म हो जायेगा। यह सूर्यग्रहण अमेरिका के उत्तरी भाग, उत्तरी कनाड़ा, उत्तरी यूरोप और एशिया, रूस, ग्रीनलैंड और उत्तरी अटलांटिक महासागर क्षेत्र में पूर्ण रूप से दिखाई देगा।

- Advertisement -

इस दिन आसमान में रिंग ऑफ फायर का नजारा देखा जा सकता है लेकिन यह भारत में आंशिक रूप से ही दिखने वाला है। चंद्रमा की छाया के कारण सूर्य के बीच का भाग ढक जाता है और उसके किनारे से रोशनी निकलती है जिसके चलते सूर्य के चारों ओर एक रिंग जैसी आकृति नजर आती है जिसे रिंग ऑफ फायर कहते हैं। इसे कंकण रूप भी कहा जाता है। सूर्य ग्रहण पूरी तरह से एक खगोलीय घटना है लेकिन ज्योतिष शास्त्र में सूर्य ग्रहण को राशियों को प्रभावित करने वाली घटना बताया गया है। जून का महीना ग्रहों के राशि परिवर्तन और सूर्य ग्रहण की घटना के कारण विशेष है। जून में मंगल, शुक्र और सूर्य ग्रह का राशि परितर्वन हो रहा हैं। जून माह में तीन ग्रह वक्री होने जा रहे हैं। 10 जून को वट सावित्री भी है और उस दिन व्रत रखने वाली अनेक महिलाओं के मन में वट अमावस्या के दिन पूजा करने के समय को लेकर संशय बना हुआ है। ग्रहण के दौरान कोई पूजा पाठ नहीं किया जाता है। परन्तु यह नियम केवल पूर्ण सूर्य ग्रहण के दौरान लागू होता है हालांकि आंशिक सूर्य ग्रहण में सूतक काल नहीं माना जाता है।

- Advertisement -

न्यूज़ अपडेट

मनोरंजन