Tuesday, August 3, 2021
Homeदेशइंतजार हुआ खत्म, दुश्मनो के लिए आया राफेल, अंबाला में 5 राफेल...

इंतजार हुआ खत्म, दुश्मनो के लिए आया राफेल, अंबाला में 5 राफेल की हुई लैंडिंग।

- Advertisement -

रफाल विमानों की हरियाणा के अंबाला एयरबेस पर लैंडिंग हो गई है। भारतीय वायुसेना के लिए आवश्यक माने जाने वाला राफेल विमान का वायुसेना अध्यक्ष की मौजूदगी में वाटर कैनन के साथ स्वागत किया गया। फ्रांस के बंदरगाह शहर बोर्डेऑस्क में मैरीग्नेक वायुसेना अड्डे से इन विमानों ने सोमवार को उड़ान भरी थी। ये विमान लगभग सात हजार किलोमीटर का सफर तय करके बुधवार को अंबाला वायुसेना अड्डे पर पहुंचे। इससे पहले भारतीय वायुसीमा में पांचों रफाल विमानों के घुसते ही युद्धपोत INS कोलकाता ने स्वागत करते हुए कहा कि ये गर्व की उड़ान है, हैप्पी लैंडिंग। जिस अनोखे पल का इंतजार देश को कई बरसों से था, वो आखिरकार वो पल आ गया। रफाल का इंतजार खत्म हो चुका है और रफाल विमानों की हरियाणा के अंबाला एयरबेस पर सुरक्षित लैंडिंग हो गई है। 5 रफाल विमानों की ऐतिहासिक लैंडिंग पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर कहा कि- इन बर्ड्स (रफाल विमानों की) सुरक्षित तरीके से अंबाला में लैंडिंग हो गई है।

- Advertisement -

वायुसेना ने क्यों पहले 5 राफेल विमानों को अंबाला एयरबेस में तैनात करने की योजना बनाई। इस सवाल का जवाब भारत के सामने रक्षा चुनौतियां और उन चुनौतियों से निपटने में अंबाला के महत्व से मिल जाता है। मौजूदा समय में जम्मू-कश्मीर में भारत और पाकिस्तान के बॉर्डर (LoC) तथा लद्दाख में भारत और चीन बॉर्डर पर मुख्य चुनौती है। अंबाला से यह दोनो जगह काफी नजदीक हैं। LAC के उस पार चीन का जो नजदीकी एयरबेस उसकी अंबाला से लगभग 300 किलोमीटर दूरी है जबकि अंबाला के पास पाकिस्तान के नजदीकी एयरबेस की दूरी लगभग 200 किलोमीटर है। जरूरत पड़ने पर राफेल विमान मिनटों में इन दोनो एयरबेस को अपना निशाना बना सकता है।

- Advertisement -

इन विमानों को बुधवार दोपहर में भारतीय वायुसेना में स्क्वाड्रन नम्बर 17 में शामिल किया जाएगा, जिसे ‘गोल्डन एरोज’ के नाम से भी जाना जाता है। हालांकि, इन विमानों को औपचारिक रूप से भारतीय वायुसेना में शामिल करने के लिए अगस्त के आसपास समारोह आयोजित किया जा सकता है जिसमें रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और देश के शीर्ष सैन्य अधिकारियों के शामिल होने की उम्मीद है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की ओर से ट्वीट कर वायुसेना को बधाई दी गई है। राजनाथ सिंह ने कहा कि राफेल का मिलना वायुसेना के इतिहास में क्रांतिकारी बदलाव होगा और दुश्मन भारत की तरफ नज़र डालने से पहले कई बार सोचेगा।

- Advertisement -

न्यूज़ अपडेट

मनोरंजन